मध्यप्रदेश के रियासी पर सुप्रीम कोर्ट राज्य सरकार कांग्रेस की बागी विधायक की नोटिस कल होगी सुनवाई

by Umesh Paswan

भोपाल SC का सरकार और बागी विधायकों को नोटिस, कल होगी सुनवाईसुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में मध्य प्रदेश सरकार को स्टैंडिंग काउंसिल के जरिए नोटिस जारी किया है. इसके अलावा कांग्रेस पार्टी और स्पीकर को भी नोटिस जारी किया गया है. इसी के साथ सुनवाई को कल तक के लिए टाल दिया गया है और अब बुधवार को इस मामले पर सुनवाई होगी.

सुप्रीम कोर्ट में शुरू हुई सुनवाईसुप्रीम कोर्ट में मध्य प्रदेश मामले को लेकर सुनवाई शुरू हो गई है. बीजेपी की ओर से मुकुल रोहतगी ने अदालत में कहा कि ये पूरा मामला लोकतंत्र को जीवित रखने को लेकर है, लेकिन दूसरा पक्ष इस मामले में कृतज्ञता नहीं दिखा रहा है.
इस दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि मीडियाकर्मियों को कोर्ट में आने से नहीं रोका गया होगा, जिसपर उन्हें जानकारी दी गई कि कुछ मीडियाकर्मियों को अदंर आने की इजाजत है.

  • सुप्रीम कोर्ट में अब से कुछ देर में मध्य प्रदेश मामले की सुनवाई शुरू होगी. शिवराज सिंह चौहान और भाजपा विधायकों की ओर से मुकुल रोहतगी अदालत में पेश होंगे, जबकि बागी कांग्रेस विधायकों की तरफ से पूर्व ASG मनिंदर सिंह पेश होंगे.
  • Rebel Congress MLA Imarti Devi, in Bengaluru: Jyotiraditya Scindia is our leader. He taught us a lot. I'll always stay with him even if I had to jump in a well https://t.co/U6Pe7GjhVM pic.twitter.com/ggjtCOFcA8— ANI (@ANI) March 17, 2020

बागी विधायक बोले- हमारे नेता ज्योतिरादित्य सिंधियापिछले कई दिनों से कर्नाटक के बेंगलुरु में रुके हुए कांग्रेस के बागी विधायकों ने मंगलवार को मीडिया से बात की. बागी विधायकों का कहना है कि हमारे नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया हैं. हालांकि, विधायकों का कहना है कि अभी उन्होंने बीजेपी में जाने पर फैसला नहीं लिया है, वे इसपर विचार करने के बाद फैसला करेंगे.

कांग्रेस के बागी विधायक करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंसबेंगलुरु के रिजॉर्ट में रुके हुए कांग्रेस के बागी विधायक आज सुबह 9.30 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे. यहां कांग्रेस से बगावत कर चुके 16 विधायक रुके हुए हैं जिन्होंने राज्यपाल लालजी टंडन को अपना इस्तीफा भेजा है. हालांकि, अभी तक ये इस्तीफा स्वीकार नहीं हुआ है. ऐसे में इस बात पर सस्पेंस बना हुआ है कि सदन में बहुमत परीक्षण के दौरान इन विधायकों का क्या रुख रहता है.

क्या कहता है नंबर गेम?बीजेपी – 107
कांग्रेस – 91 (+1 स्पीकर)
बागी विधायक – 16 (अभी तक इस्तीफा स्वीकार नहीं)
बसपा – 2
सपा – 1
निर्दलीय – 4
6 लोगों का इस्तीफा स्वीकार हुआ.
मध्य प्रदेश विधानसभा में कुल 228 की संख्या है, 6 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं. ऐसे में विधानसभा की संख्या 222 है और बहुमत साबित करने के लिए 112 का आंकड़ा चाहिए.

स्पीकर ने 26 मार्च तक स्थगित की विधानसभाविधानसभा का सत्र सोमवार को जब शुरू हुआ तो काफी ड्रामा हुआ. राज्यपाल लालजी टंडन ने अपने अभिभाषण की पहली और आखिरी लाइन पड़ी और उसके तुरंत बाद स्पीकर ने विधानसभा की कार्यवाही को 26 मार्च तक स्थगित कर दिया. इसके बाद बीजेपी ने अपने 106 विधायकों की परेड राज्यपाल के सामने की और कहा कि कांग्रेस सरकार ने राज्यपाल के आदेश का पालन नहीं किया.

सुप्रीम कोर्ट में आज होगी सुनवाईसोमवार को विधानसभा में बहुमत परीक्षण ना होने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया. पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की ओर से दाखिल की गई याचिका में मध्य प्रदेश में 24 घंटे में बहुमत साबित करने को कहा गया. कोरोना वायरस के चलते सर्वोच्च अदालत में निश्चित मामलों की सुनवाई हो रही है, हालांकि अदालत ने मंगलवार को इस मामले को सुनने पर सहमति दी.

Related Posts

Leave a Comment