अखिल भारतीय असंगठित श्रमिक कांग्रेस ने राहुल गांधी जी के जन्मदिन के अवसर पर जारी किया प्रवासी श्रमिक संकट सहायता मोबाइल नंबर

by Umesh Paswan

नई दिल्ली 19 जून अहमदाबाद में एक शादी समारोह में वरिष्ठ कांग्रेस नेता श्री दीपक बाबरिया ने अखिल भारतीय असंगठित श्रमिक कांग्रेस के प्रवासी श्रमिक प्रकोष्ठ द्वारा संचालित प्रवासी श्रमिक संघ सहायता मोबाइल संख्या का 75 75 0 60 644 जारी किया इस अवसर पर श्री बाबरिया ने बताया कि कैसे वर्तमान केंद्र सरकार की गलत नीतियों के कारण बढ़ती महगाई असंगठित श्रमिकों को संगठित करने के कार्य को और कठिन बना दिया है उन्होंने एआईयू डब्लू सी की पहल की सराहना की और आशा व्यक्त की कि इससे असंगठित श्रमिकों पुलाव होगा, वही श्री अरविंद सिंह जी अकेले भारतीय असंगठित कामगार कांग्रेस के चेयरमैन ने कहा कि चुकी इस विभाग के पदाधिकारी पूरे देश में है इसलिए यह देश के किसी भी कोने से प्राप्त होने वाली किसी भी शिकायत को दूर करने में सक्षम है उन्होंने कहा कि एक ट्रेड यूनियन के लिए पूरे देश में शाखाएं होना संभव नहीं है लेकिन चुकी एआईयू w.c. कांग्रेस पार्टी के एक विभाग के रूप में कार्य करता है इसलिए ए आई यू सी के लिए मदद के लिए ए आई डब्ल्यू सी तक पहुंचने वाले किसी भी कार्यकर्ता की मदद करना मुश्किल नहीं है इस अवसर पर देशभर में असंगठित श्रमिकों को राशन वितरण भी किया गया, एआईयू w.c. असंगठित श्रमिकों को आर्थिक सहायता के लिए आंदोलन कर रहा है और 18 जून से ऑनलाइन अभियान कोविडकरिसिससुपपोर्ट का आयोजन किया गया है जो 24 जून को देश भर से आई डब्ल्यू सी के पदाधिकारी अपने जिला पदाधिकारियों और राज्यपालों के माध्यम से प्रधानमंत्री को ज्ञापन देंगे जिसमें असंगठित श्रमिकों को तत्काल कोविद संकट सहायता की मांग की जाएगी,वही अपनी बातों को छत्तीसगढ़ प्रदेश अध्यक्ष आलोक पांडेय जी ने रखते हुए कहा कि
आज आपने अपने जन्मदिन के शुभ अवसर पर बैनर पोस्टर फटाका रैली ना करके गरीब व दुखी लोगों की सेवा दिवस के रूप में मनाने का ऐतिहासिक फैसला लिया, हम जितनी तारीफ करें उतना ही कम है, जबसे राहुल जी ने असंगठित कामगार कांग्रेस की स्थापना के प्रथम दिवस पर आपने हम लोगों को से संगठन में राजनीति के साथ में श्रम सेवा के रूप में कार्य करने का निर्देश दिया जिस परिस्थिति में आज हमने माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष अरविंद सिंह जी के नेतृत्व में असंगठित मजदूर के लिए प्रयासरत रहते हैं हमने देखा है की सबसे ज्यादा मजदूर जो एक प्रदेश से दूसरे प्रदीप जाते हैं उसमें छत्तीसगढ़ बिहार झारखंड उत्तर प्रदेश के होते हैं वह दिल्ली गुजरात महाराष्ट्र जम्मू कश्मीर इत्यादि स्थानों पर कार्यरत है जिन के हितों की रक्षा के लिए सदैव असंगठित कामगार कांग्रेस प्रयासरत रहती है हमने कई मिल मालिकों द्वारा श्रमिकों को बंधक बनाकर मानसिक शारीरिक रूप से प्रताड़ित करने वाले उन उद्योगपतियों से छुड़ाकर उनके घर बहुत हुआ या है यह जो नंबर हम आज राहुल गांधी जी के जन्मदिवस पर प्रारंभ करने जा रहे हैं इसका उद्देश्य ऐसे मजदूर जो देश के किसी भी कोने में रह कर हमसे संपर्क करेंगे तो हम उनकी मदद के लिए तत्काल कदम उठाएंगे इसमें आपका सहयोग और आशीर्वाद अपेक्षित है हमने छत्तीसगढ़ के हजारों मजदूरों को उनके घर अपने संगठन के माध्यम से पहुंचाया है और हमारा प्रयास यही है कि उनके जीवन यापन करने के लिए उन्हें प्रदेश में ही रोजगार उपलब्ध कराया जाए

Related Posts

Leave a Comment